पहला पन्ना / खबरें / सृजनात्मक / अनुदान / थैंक यू सुब्रतो दा – Thank you, Subrota Da !

 
टांगराइन स्कूल के बच्चे सुब्रतो दा को थैंक्यू कहकर उनका शुक्रिया अदा करते हुए।
टांगराइन स्कूल के बच्चे सुब्रतो दा को थैंक्यू कहकर उनका शुक्रिया अदा करते हुए।

टांगराईन, पोटका, पूर्वी सिंहभूम, 31 जनवरी, 2018: उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन के बच्चे आज ढेर सारे उपहार पाकर काफी खुश हो गये और उन्होंने समवेत स्वर में अपने शुभचिंतक, हितैषी एवं संरक्षक संयुक्त राज्य अमेरिका में रहनेवाले श्री सुब्रोतो मुखर्जी को ‘थैंक यू’ कहा।

विशेष अंदाज में बच्चों द्वारा सुब्रतो दा को थैंक्यू कहने की एक खास वजह थी। वह यह कि सुब्रतो दा ने बच्चों के लिए दोबारा ढेर सारे तोहफ़े भेजे हैं, ग्लोब से लेकर, ढेर सारी किताबें, इंस्ट्रूमेंट बॉक्स, एक छोटा प्लेनेटेरियम एवं और भी ढेर सारे अपरेटस।

अमेज़न के जरिए भेजे गये इतने सारे उपहारों एवं शैक्षणिक सामग्रियों को देखकर बच्चों का मजमा लग गया। वे उन उपहारों को छूकर देखना चाहते थे।

शिक्षक भी इन उपहारों एवं महंगे अपरेटस को देखकर काफी प्रसन्न हुए। शिक्षकों का कहना था कि उन्हें भी अब यह सीखना होगा कि इन अपरेटस के जरिए बच्चों को नयी-नयी चीज़ें कैसे सिखायी जाए।

प्रधानाध्यापक अरबिंद तिवारी ने सुब्रतो मुखर्जी का आभार जताते हुए कहा कि टांगराईन जैसे इलाके के एक सरकारी स्कूल के बच्चे सोच भी नहीं सकते थे कि उन्हें ऐसी शैक्षणिक सामग्रियों का इस्तेमाल करने का अवसर मिलेगा।

उन्होंने कहा कि सुब्रतो दा ने बच्चों के जीवन में ही नहीं बल्कि पूरे स्कूल में एक नये उत्साह का संचार किया है।

सुब्रतो दा द्वारा भेजी गयी पुस्तक

उन्होंने कहा कि अनुदान में मिलनेवाली सारी वस्तुओं की एक इन्वेन्ट्री तैयार की जा रही है और उसे वेबसाइट पर प्रदर्शित किया जा रहा है।

इन्वेन्ट्री का पृष्ठ तैयार हो गया है, बस सभी चीजों की प्रविष्टि करने की प्रक्रिया जारी है। यह काम एक-दो दिनों में पूरा हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि विद्यालय को अनुदान में मिली सारी चीज़ों का पूरा रिकॉर्ड रखा जाएगा, और उनकी अद्यतन स्थिति और इ्स्तेमाल की सूचना भी वेबसाइट पर प्रदर्शित की जाएगी ताकि पारदर्शिता बनी रहे और अनुदान देनेवाले व्यक्ति को यह पता रहे कि उनके द्वारा दी गयी वस्तु का किस प्रकार सकारात्मक इस्तेमाल बच्चे कर रहे हैं।

बच्चों ने सात समंदर पार रहनेवाले अपने बेनीफैक्टर सुब्रतो दा को धन्यवाद जताने के लिए जुटकर थैंक्यू लिखकर प्रदर्शित किया।

 
 
 
%d bloggers like this: