पहला पन्ना / खबरें / गतिविधियाँ / उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन की ओर से जिला स्तरीय ‘पूछो सवाल- 2018 प्रतियोगिता’ की घोषणा

 

16 विजेता बच्चों को 28 फरवरी, 2018 को विज्ञान मेले के समापन समारोह में पुरस्कृत किया जाएगा

टांगराईन, पोटका, 25 जनवरी, 2018: उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन की ओर से बच्चों में सवाल पूछने की प्रवृत्ति को प्रोत्साहित करने एवं उनकी कल्पनाशक्ति को उड़ान देने हेतु ‘पूछो सवाल- 2018 प्रतियोगिता’ की घोषणा की गयी है। यह प्रतियोगिता हर वर्ष आयोजित की जाएगी और इसके विजेता बच्चों को हर वर्ष फरवरी माह में आयोजित होनेवाले विज्ञान मेला के समापन समारोह में पुरस्कृत किया जाएगा।

सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार जीतनेवाले बच्चे को 1001 रू. तक की किताबें व शैक्षणिक सामग्रियाँ, पाँच बच्चों को 501 रु. की किताबें व शैक्षणिक सामग्रियाँ एवं दस बच्चों को 101 रु. की किताबें व शैक्षणिक सामग्रियाँ देकर प्रोत्साहित किया जाएगा।

रामानुजम

यह प्रतियोगिता पूर्वी सिंहभूम जिले में किसी भी निजी या सरकारी, अंग्रेजी या हिंदी या बाँग्ला या उर्दू या किसी भी भाषा के स्कूल में पढ़ रहे या फिर किसी भी स्कूल में नहीं पढ़ रहे कक्षा आठवीं तक या फिर अधिकतम 15 साल की उम्र तक के बच्चे के लिए है।

इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए हमारे वेबसाइट में सबसे ऊपर या सबसे नीचे दिये गये लिंक पर या यहाँ क्लिक कर फॉर्म डाउनलोड किया जा सकता है। शिक्षकों, प्रधानाध्यापक, घर में पढ़ रहे बच्चे के अभिभावक या फिर स्कूल न जानेवाले बच्चे के संरक्षक से आग्रह है कि वे इस फॉर्म को प्रिन्ट कर बच्चों को दे दें। इस फॉर्म के सवाल वाले हिस्से को बच्चे द्वारा ही भरा जाएगा। नाम, पता, आयु आदि विवरण शिक्षक खुद लिख सकते हैं। सवाल बच्चे का होना चाहिए और बच्चे द्वारा ही लिखा जाना चाहिए। फॉर्म भर दिये जाने के बाद शिक्षक, अभिभावक या संरक्षक उसे 8825146073 पर व्हाट्सऐप कर दें। अन्य तरीकों से प्रविष्टि स्वीकार करना हमारे लिए संभव नहीं है।

यह पूर्वी सिंहभूम जिले के किसी भी निजी या सरकारी या घर में पढ़ रहे या फिर नहीं पढ़ रहे आठवीं कक्षा तक के बच्चों के लिए है। हर बच्चा अधिकतम एक सवाल पूछ सकता है। सवाल छात्रा/छात्र का होना चाहिए और उसके द्वारा ही नीचे हिंदी या अंग्रेजी में हाथ से लिखा होना चाहिए।

उटपटांग और बेसिरपैर के सवाल पूछने की छूट है। शिक्षकों से आग्रह है कि वे अपनी घोषणा के दौरान बच्चों को अपनी कल्पना शक्ति का इस्तेमाल करने और अपने बाल मन में पनपने वाले सवालों को अभिव्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित करें। इन सवालों के जवाब होने न होने से कोई मतलब नहीं है। पुरस्कार कल्पना शक्ति और तीक्ष्णता के लिए दिये जाएँगे। हमारे लिए कोई सवाल गंदा, गलत या नावाज़िब नहीं है और कुछ भी पूछने की मनाही नहीं है।

कुछ उदाहरण: भूत कहाँ सोते हैं? भूत मरकर क्या बनते हैं? आदमी को पूँछ क्यों नहीं होती? भगवान को प्यास लगती है कि नहीं? पेट्रोल खत्म हो जाने पर क्या होगा? क्या आदमी कभी अमर बनेगा?)

आईन्सटीन

कृपया ध्यान दें कि यह प्रतियोगिता केवल सवालों के बारे में हैं। सवालों के जवाब देने की जिम्मेवारी किसी पर नहीं है और कोई ऐसी कोशिश भी नहीं करेगा।

शिक्षक या प्रधानाध्यापक या अभिभावक से अनुरोध है कि वे बच्चे द्वारा फॉर्म भर दिये जाने के बाद उसे 8825146073 नंबर पर व्हाट्सऐप कर दें। सहूलियत के लिए व्हाट्सऐप करना आवश्यक है। अन्य तरीकों से भेजी गयी प्रविष्टियाँ स्वीकार नहीं की जाएँगी।

विजेता बच्चों को हमारे स्कूल में आयोजित होनेवाले विज्ञान मेला के समापन समारोह मे ं28 फरवरी, 2018 को पुरस्कृत किया जाएगा। विजेता बच्चों को टांगराईन ले जाने की व्यवस्था की जाएगी। जो विजेता बच्चे नहीं जा पाएँगे उन्हें पुरस्कार उनके विद्यालय तक भिजवा दिया जाएगा। यदि विद्यालय नहीं है, तो बच्चे के घर तक पुरस्कार पहुँचा  दिया जाएगा।

संत कबीर – सारगर्भित सवाल पूछनेवाले संत

शिक्षकों व अभिभावकों से अनुरोध है कि वे इस प्रतियोगिता का उपयोग बच्चों की कल्पना शक्ति को उड़ान देने के लिए करें। यदि वे असेम्बली में इस प्रतियोगिता के बारे में बच्चों को जानकारी दें और यह बताएँ कि कैसे-कैसे सवाल पूछे जा सकते हैं और सवाल पूछना कितना मजेदार काम हो सकता है तो इस प्रतियोगिता का उद्देश्य बहुत हद तक पूरा हो जाएगा। बच्चों को बताएँ कि सवाल पूछने के लिए जवाब मिलेगा या नहीं इसकी चिंता कतई नहीं करनी चाहिए।

विजेता सवालों का चयन एक निष्पक्ष और काबिल निर्णायक मंडली द्वारा किया जाएगा, जिसमें स्थापित वैज्ञानिक, विद्वान, प्राध्यापक, शिक्षक आदि शामिल किये जाएँगे। सवालों का चयन बाल सुलभ जिज्ञासा, पूछने की हिम्मत, मानसिक कुशाग्रता आदि के आधार पर करने का निरर्थक प्रयास किया जाएगा। वैसे बच्चों के सवालों में से सर्वश्रेष्ठ सवालों को चुनना एक कठिन ही नहीं  बल्कि असंभव काम है। हमारे लिए बच्चों के सारे सवाल ज़हीन ही हैं। पर कुछ को पुरस्कृत करना जरूरी भी है, तो हम कुछ को चुनने और उन्हें सर्वश्रेष्ठ करार देने की धृष्टता करेंगे, हालाँकि हम जानते हैं कि यह विशेषण बेकार है। हमें यह भी पता है कि बच्चे सबसे ज़हीन सवाल तो अपने मन में ही छुपाकर रख लेंगे। पर जो संभव है, हम उतना ही करेंगे।

इस प्रतियोगिता में सुधार के लिए आपके सुझाव आमंत्रित हैं।

 
 
 
%d bloggers like this: