पहला पन्ना / खबरें / गतिविधियाँ / टांगराईन स्कूल की नयी पहल – ‘जोर से पढ़ो, मिलकर पढ़ो’

 

जोजोडीह गाँव में लगी रात्रि चौपाल, बच्चों ने सुनायीं कहानियाँ

जमशेदपुर, 3 मई, 2019: उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन के प्रधानाध्यापक अरविंद तिवारी ने एक नयी पहल करते हुए ‘जोर से पढ़ो-मिलकर पढ़ो’ कार्यक्रम की शुरुआत की। विगत रात्रि विद्यालय के पोषक क्षेत्र जोजोडीह गाँव में विद्यालय की ओर से रात्रि चौपाल लायी गयी, जिसमें बच्चों ने जोर-शोर से पढ़कर कविताएँ-कहानियाँ सुनायीं। कार्यक्रम में गाँव के सभी बच्चे, महिलाएँ एवं पुरुष शामिल हुए। कार्यक्रम में क्षेत्र के कई शिक्षाविद भी शामिल हुए।

संध्या छह बजे से आठ बजे तक चली ‘रात्रि चौपाल’ में प्रधानाध्यापक अरविंद तिवारी ने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों में पढ़ने व समझने की दता का विकास करना है। बच्चों की पढ़ाई में सामुदायिक भागीदारी सुनिश्चित करना तथा बच्चों में संवाद कौशल एवं आत्मविश्वास की बढ़ोतरी करना है।

उन्होंने अभिभावकों से कहा कि वे प्रत्येक दिन संध्या में कम से कम दो घंटा बच्चों को पढ़ने के लिए कहें। उन्हें जोर-जो से पढ़ने के लिए कहें। अनपढ़ माँ-पिता भी इस तरीके से बच्चों की पढ़ाई की मॉनिटरिंग कर सकते हैं।

उन्होंने बताया कि ‘रीड अलाउड ऐंड रीड टुगेदर’ यानी ‘जोर से पढ़ो-मिलकर पढ़ो’ कार्यक्रम प्रत्येक टोले में नियमित रूप से संध्या 6 से 8 बजे के बीच संचालित होगी।

पद्धति

  1. यह प्रत्येक टोलों में नियमित रूप से संध्या 6-8 बजे के बीच संचालित होगी।
  2. इसमें बच्चों के साथ-साथ ग्रामीण भी शामिल होंगे।
  3. बच्चे माइक पर या जोर से लोगों को कहानी या कविता पढ़कर सुनाएँगे।
  4. इससे उनमें आत्मविश्वास भी बढ़ेगा और पढ़ने की उनकी क्षमता का विकास भी होगा।
  5. ग्रामीण भी भागीदार बनेंगे एवं लाभान्वित होंगे।
  6. शिक्षक अभिभावकों को प्रेरित करेंगे कि वे अपने बच्चों को जोर से बोलकर पढ़ने के लिए कहें। इससे अनपढ़ अभिभावक भी बच्चों की पढ़ाई की मॉनिटरिंग कर सकेंगे।
  7. यह विद्यालय के पोषण क्षेत्र के प्रत्येक टोलों में नियमित रूप से आयोजित होगा।

इस कार्यक्रम में विद्यालय के शिक्षक भी शामिल होंगे

कार्यक्रम का संचालन उज्ज्वल मंडल ने किया। आरंभ में ग्राम प्रधान सिंगराई मांझी ने सब का स्वागत किया और कार्यक्रम से प्रभावित होकर अंत में घोषणा की कि वे ग्राम सभा की हर बैठक में बच्चों की पढ़ाई पर चर्चा करेंगे।

शिक्षाविद जयहरि सिंह मुंडा, आनंद प्रधान एवं केनरा बैंक के सेवानिवृत्त मैनेजर उच्छवा महाली ने कहा कि विद्यालय परिसर से बाहर आकर बच्चों को शिक्षा देने का यह कार्य काफी सराहनीय है। इस तरह की अभिनव पहल से बच्चों में पढ़ने की क्षमता बढ़ेगी। जोजोडीह गाँव के मोहन लाल सरदार ने भी कार्यक्रम की सराहना कते हुए इसमें श्रुतिलेख को भी शामिल करने का सुझाव दिया।

रात्रि चौपाल में बच्चों ने कविता-कहानी पढ़कार सुनायी। प्रधानाध्यापक अरविंद तिवारी ने बच्चों के बीच बाल पत्रिकाएँ वितरित कीं।

 
 
 
%d bloggers like this: