पहला पन्ना / खबरें / सृजनात्मक / वीडियो / कहानियाँ एक कारगर शैक्षणिक उपाय

 

जब बात छोटे बच्चों की शिक्षा और शैक्षणिक विकास की होती है तो दो ही चीजें कारगर हैं, एक खेल और दूसरी कहानियाँ। भाषा विकास के लिए कहानियों से ज्यादा कारगर और कुछ भी नहीं। यदि आप एक बच्चे या बच्ची को युवावस्था तक केवल नयी-नयी कहानियाँ सुनाते रहें तो भी वह एक बेहतरीन और मूल्यवान नागरिक बनकर उभरेगा।

दुख की बात यह है कि कहानियाँ सुनानेवालों की संख्या घटती जा रही है। दादी-नानी की पीढ़ी खत्म होती जा रही है और नयी पीढ़ी ने न तो वैसी कहानियाँ सुन रखी हैं, न ही सुनाने की कला जानते हैं। उनके पास समय भी नहीं है कि दो-चार बच्चों को गुदड़ी में समेट कर कहानियाँ सुनायें। टी.वी. ने वह आनंद ही छीन लिया है नयी पीढ़ी के बच्चों से।

पर विज्ञान और तकनीक हमेशा से इंसान की कमियों और खामियों को दूर करते आये हैं। दादी-नानी की जगह YouTube और Vimeo बखूबी ले सकते हैं। बस कुछ बुनियादी चीजों की जरूरत होती है। गरीब बच्चों के घर में स्मार्टफोन या कम्प्यूटर और इंटरनेट उपलब्ध हों यह जरूरी नहीं। पर स्कूलों में इनकी व्यवस्था कर बच्चों को नियमित रूप से कहानियाँ सुनायी जा सकती है और दादी-नानी की कहानियों का विकल्प ढूँढ़ा जा सकता है। अपनी दादी या अपनी नानी जैसा निहायत वैयक्तिक एवं कस्टमाइज्ड अनुभव इससे भले ही न मिले, पर बच्चों को एक आनंददायक शैक्षणिक अनुभव अवश्य मिलेगा।

 
 
 
%d bloggers like this: