पहला पन्ना / खबरें / टांगराईन स्कूल के हेडमास्टर की बातें सुनीं प्रतिष्ठित अंग्रेजी स्कूल तारापोर, एग्रिको के बच्चों ने

 

सरकारी स्कूल, टांगराईन के प्रधानाध्यापक ने प्रतिष्ठित अंग्रेजी स्कूल
तारापोर स्कूल, एग्रिको के बच्चों को संबोधित किया

 

ग्रामीण बच्चों की रुचि वाले खेलों-गतिविधियों को प्रोत्साहन जरूरी: अरबिंद तिवारी

अरबिंद तिवारी तारापोर स्कूल, एग्रिको के यंग लीडर्स फ़ेलो को संबोधित करते हुए। साथ में हैं समाजसेवी श्री बेली बोधनवाला एवं स्कूल की प्रिंसिपल ऐमी बिलिमोरिया।

जमशेदपुर, 9 सितंबर, 2018: उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन के प्रभारी प्रधानाध्यापक अरबिंद तिवारी ने आज शहर के सुप्रतिष्ठित तारापोर स्कूल, एग्रिको में यंग लीडर्स फ़ेलोशिप के बच्चों को संबोधित किया।

प्रसिद्ध समाजसेवी बेली बोधनवाला, टीना बोधनवाला एवं विद्यालय की प्रिंसिपल ऐमी बिलमोरिया के आमंत्रण पर अरबिंद तिवारी ने बच्चों के साथ अपना अनुभव बाँटा।

तारापोर स्कूल, एग्रिको की ओर से यंग लीडर्स फ़ेलोशिप के तहत 16 बच्चों को चुना गया है, जो रूरल एज़ुकेशन के क्षेत्र में प्रोज़ेक्ट बनाकर कार्य करेंगे।

तारापोर स्कूल, एग्रिको के यंग लीडर्स फेलोशिप में शामिल बच्चे टांगराईन स्कूल के प्रधानाध्यापक के साथ इंटरएक्ट करते हुए।

उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन के प्रधानाध्यापक अरबिंद तिवारी ने बताया कि शिक्षा के क्षेत्र में काफी असमानताएँ हैं। ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को अवसर व सुविधाएँ नहीं प्राप्त होते हैं, जो निजी स्कूल के बच्चों को आम तौर पर होते हैं। ग्रामीण क्षेत्र के शिक्षकों को कई स्तर पर कुशल प्रबंधक की भूमिका निभानी पड़ती है। परेशानियाँ केवल बहाना है। यदि जिद व जुनून के साथ प्रयास किया जाए तो स्थितियाँ बदली जा सकती हैं।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों के लिए सबसे ज्यादा ज़ोर ‘पढ़ने की क्षमता’ का विकास करने पर होना चाहिए। साथ ही उन्हें जीवन कौशल से जुड़ी बातों की जानकारी भी दी जानी चाहिए। उन्हें उन चीजों में प्रोत्साहित करना चाहिए जिनमें उनकी रुचि होती है और जिनके लिए उनमें नैसर्गिक प्रतिभा और क्षमता मौजूद होती है, जैसे कि खेलों में फुटबॉल, पर्वतारोहण, तीरंदाजी, तैराकी आदि को प्रोत्साहित करना चाहिए, न कि क्रिकेट।

कृषि से जुड़ी तकनीक की जानकारी देनी चाहिए ताकि उनकी आमदनी में इजाफ़ा हो और पलायन रुक सके।

कार्यक्रम में उपस्थित प्रसिद्ध समाजसेवी बेली बोधनवाला ने भी वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में व्याप्त असमानता पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि निजी एवं सरकारी स्कूलों की आधारभूत संरचना एकसमान होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि शिक्षा की उपलब्धता में बराबरी होनी चाहिए। कैरियर में मेरिट को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। उन्होंने कृषि क्षेत्र के विकास पर भी बल दिया। आरंभ में उन्होंने अरबिंद तिवारी द्वारा समाज एवं शिक्षा के क्षेत्र में किये जा रहे प्रयासों की सराहना की।

उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन के प्रधानाध्यापक अरबिंद तिवारी ने सभी फ़ेलोज़ एवं तारापोर स्कूल प्रबंधन को टांगराईन विद्यालय के विकास में सहयोग करने हेतु आमंत्रित किया।

फेलोशिप में शामिल बच्चे उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन को विकसित करने के लिए एक योजना भी तैयार करेंगे। यह उनके प्रोजेक्ट का हिस्सा होगा।