पहला पन्ना / खबरें / गतिविधियाँ / कार्यक्रम / उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन में पोषण मेला आयोजित

 

 

टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र - उत्तम आचार्जी)
टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र – उत्तम आचार्जी)

टांगराईन, पोटका, 4 मार्च, 2018: सेंटर फॉर वर्ल्ड सॉलिडेरिटी के तत्वावधान में उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन में आज पोषण मेला का आयोजन किया गया।

इस पोषण मेला में विद्यालय के 184 बच्चों एवं उनकी माताओं व ग्रामीणों ने भाग लिया। पोषण मेला में ‘युवा’ द्वारा संचालित चार केन्द्रों के लगभग 60 शबर बच्चे भी शामिल हुए।

मेला का उद्घाटन करते हुए सी.डब्ल्यू.एस. के निदेशक मणिमय सिन्हा ने कहा कि बच्चों के विकास के लिए संतुलित भोजन जरूरी है।

टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र - उत्तम आचार्जी)
टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र – उत्तम आचार्जी)

बच्चों के सही पोषण से हम विभिन्न प्रकार के रोगों से भी बच सकते हैं। उन्होंने कहा कि दैनिक आहार प्रणाली में मिलावट मुक्त भोजन को शामिल करना होगा।

प्राकृतिक रूप से उपलब्ध खाद्य उत्पाद और उनसे बने पारंपरिक व्यंजनों के इस्तेमाल को बढ़ावा देना होगा। जैविक खाद्य उत्पादन एवं खपत को बढ़ावा देने होगा।

स्वागत भाषण देते हुए विद्यालय के प्रधानाध्यापक अरविंद तिवारी ने कहा कि बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए संतुलित एवं पौष्टिक भोजन जरूरी है। मेला का आयोजन बच्चों एवं माताओं को जागरूक बनाने के लिए किया गया।

टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र - उत्तम आचार्जी)
टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र – उत्तम आचार्जी)

मेले में कार्यक्रम संयोजक सुरभि शर्मा, मो. सबा, आनंद महतो, पामेली गिरी, राजलक्ष्मी पूर्ति, प्रमोद कुमार ने खेल के जरिए ‘तिरंगा भोजन’ के महत्व को समझाया।

40 बच्चे बने न्यूट्रिशन हीरो
कार्यक्रम में 40 बच्चों को न्यूट्रिशन हीरो के रूप में चुना गया और उन्हें टी-शर्ट भेंट की गयी। ये बच्चे विद्यालय में किचन गार्डन तथा सबी 184 बच्चों के घरों में किचन गार्डन बनाने में मदद करेंगे। बच्चों को पोषण की जानकारी देंगे।

साथ ही ढेंगाम, कराड़कोचा, ओतेझारी एवं पारसीजगाड में शबर बच्चों को भी जाकर पोषण वाटिका के महत्व को समझाएँगे।

टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र - उत्तम आचार्जी)
टांगराईन विद्यालय में पोषण मेला। (चित्र – उत्तम आचार्जी)

वजन एवं शारीरिक वृद्धि की होगी मासिक मॉनिटरिंग
उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन के सभी बच्चों तथा चार गाँवों के शबर बच्चों को प्रत्येक माह वजन तथा शारीरिक वृद्धि को रिकॉर्ड किया जाएगा। विशेषज्ञों की मदद से उन्हें उचित पोषण की सलाह दी जाएगी।

किचन गार्डन एवं केंचुआ खाद बनाने की मिली जानकारी
कार्यक्रम में बच्चों को किचन गार्डन बनाने तथा केंचुआ खाद बनाने की जानकारी दी गयी। सभी बच्चों के घरों में किचन गार्डेन बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

ग्रामीणों ने बढ़-चढ़ कर कार्यक्रम में भाग लिया
पोषण मेला में काफी संख्या में ग्रामीण शामिल हुए। खासकर महिलाएँ। कार्यक्रम में पूर्व प्रधानाध्यापक एवं समाजसेवी जयहरि सिंह मुंडा, विद्याधर मंडल, नेपाल, मंटू महतो, वार्ड मेंबर मंगला माँझी, विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष सुराई मांझी, मैन सिंह सरदार, मोहनलाल सरदार आदि भी उपस्थित थे।

पौष्टिक भोजन का भी स्वाद
मेले में शामिल बच्चों एवं ग्रामीणों ने पौष्टिक भोजन का बी स्वाद लिया। देसी लाल चावल, दाल मुनगा (सहजन की सब्जी), देशी अंडे आदि भोजन में शामिल किये गये थे।

जंगल से मिलनेवाले खाद्य पदार्थों की प्रदर्शनी
मेले में शामिल होने आये शबर बच्चों ने जंगल में पाये जानेवाले खाद्य पदार्थों की प्रदर्शनी भी लगायी।

 

 

 
 
 
%d bloggers like this: