पहला पन्ना / खबरें / गतिविधियाँ / कार्यक्रम / टाँगराईन स्कूल की बालिकाओं ने देखी फिल्म ‘पैडमैन’

 

टांगराईन, पोटका से किशोरियाँ व ग्राम प्रतिनधि पहुँचे जमशेदपुर स्थित सिनेमाघर, पैडमैन फिल्म देखकर ली माहवारी के मुद्दे पर झिझक तोड़ने की ली प्रेरणा

जमशेदपुर, 14 फरवरी 2018 : सुपरस्टार अक्षय कुमार अभिनीत हिन्दी फीचर फिल्म पैडमैन शर्म का विषय समझे जाने वाले माहवारी के मुद्दे पर देश भर में जागरूकता की नई मिशाल पेश कर रहा है। पैडमैन फिल्म के साथ समाज में माहवारी और सैनिटरी पैड के मुद्दे पर चर्चा शुरू हो चुकी है, जो बेहद सकारात्मक है। इसी बीच सुनाओ पहाड़ा पैडमैन चैलेंज जीतने वाली उत्क्रमित मध्य विद्यालय, टांगराईन, पोटका की किशोरियों ने जमशेदपुर स्थित आइलेक्स सिनेमाघर आकार पैडमैन देखा। गाँव से तकरीबन 60 किलोमीटर दूर सिनेमाघर आकार फिल्म देखने का उनका उत्साह देखने लायक था।

फिल्म देखकर किशोरियों में मुद्दे को लेकर बनी बेहतर समझ : अरविंद तिवारी

किशोरियों को फिल्म दिखाने की अनोखी पहल करने वाले विद्यालय के प्रधानाध्यापक अरविंद तिवारी ने बताया कि “माहवारी के मुद्दे पर बात करना अब तक असजह ही रहा है। विद्यालय में कार्यशाला के माध्यम से बच्चियों को सभी जानकारियाँ दी जाती है। वही फिल्म देखकर किशोरियाँ इससे जुड़े और भी बातों को बेहतर ढंग से समझ पाएँगी, कुछ नया करने को प्रोत्साहित होंगी । इसी मकसद से बच्चियों को कविता चैलेंज पूरा करने पर फिल्म दिखाया गया।“

हमें गंदा कपड़ा नहीं उपयोग करना चाहिए, इससे कई बीमारियाँ होती है : असिता सरदार

किशोरियों को फिल्म दिखलाना अपने मकसद में पूरी तरह कामयाब रहा। फिल्म देखने के बाद बेहद उत्साहित विद्यालय में वर्ग 8वी की छात्रा पायल मण्डल ले बताया कि “कोशिश करने वालों कि कभी हार नहीं होती, अक्षय कुमार ने ढ़ेर सारी परेशानियों के बाद भी सस्ता पैड बना ही लिया”। वही छात्रा असिता सरदार ने बताया कि “हमें गंदा कपड़ा नहीं उपयोग करना चाहिए, इससे कई बीमारियाँ होती है”। 12 वर्षीय छात्रा सविता भगत ने बताया कि “इस मुद्दे पर बात करने में शर्म तो आ रही है, लेकिन फिल्म देखकर हमने जो कुछ जाना, वह सब हमें बहुत काम आएगा।

किशोरियों के साथ बड़ों ने भी ली प्रेरणा, परिवार को दिखाएंगे फिल्म

बच्चियों के साथ फिल्म देखने आई वार्ड मेंबर सीतारानी मुर्मु ने बताया कि “फिल्म बहुत ही प्रेरणादायी है, गाँव की महिलाएं भी काफी कुछ कर सकती है।“ बच्चों को गाँव से सिनेमाघर लाने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले बस संचालक शफ़ीकुद्दीन भी बेहद उत्साहित दिखे, उन्होने अपना अनुभव साझा करते हुये बताया कि “फिल्म देखकर खुद मुझमें साहस का संचार हो रहा है, अब मैं अपने परिवार को भी यह फिल्म दिखलाकर मुद्दे के प्रति जागरूक करने का प्रयास करूंगा।“

मौके पर जोजोडीह के ग्राम प्रधान सिंगराई मांझी, विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष सुराई मांझी, वार्ड मेंबर मंगला मांझी, सीतारानी मुर्मु, मैन सिंह सरदार, मंटू भकत, रामो टूडू, संस्था “युवा” की सचिव वर्णाली चक्रवर्ती, संस्था “निश्चय” से तरुण कुमार एवं अन्य समेत कुल 70 लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम के आयोजन में समाजसेवी श्री बेली बोधनवाला एवं उ0म0वि0 टांगराईन परिवार की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

 

 

इसके बारे में ख़बर कई समाचार चैनेलों/अखबारों तथा प्रकाशनों में भी प्रकाशित की गयी है। कुछ के लिंक यहाँ हैं-

jamshedpurtainment.com

ईनाडु

 

 

 
 
 
%d bloggers like this: